bihar ganga jal udahr scheme feature image

Bihar Gangajal Udvah Yojana – Burning Issues – Free PDF Download

Gangajal Udvah Yojana

गंगाजल उद्वाह योजना

  • Chief Minister Nitish Kumar directed the officials to complete the project of transporting Ganga water through pipes to Rajgir, Gaya, Bodh Gaya and Nawada within the time limit.
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि गंगा का पानी पाइप के जरिये राजगीर, गया, बोधगया और नवादा पहुंचाने की परियोजना को समय सीमा के अंदर पूरा करें
  • Recently, the Chief Minister was reviewing several important projects of the Water Resources Department through video conferencing.
  • हाल ही में मुख्यमंत्री वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जल संसाधन विभाग की कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं की समीक्षा कर रहे थे.

  • The Ganga Water Lift Project is associated with the water-life-greenery campaign of the Bihar government, which aims to reduce the ill effects of climate change.
  • ‘Udvah’ means to raise or bring up.
  • गंगा जल लिफ्ट परियोजना बिहार सरकार के जल-जीवन-हरियाली अभियान से जुड़ी है, जिसका उद्देश्य जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों को कम करना है।
  • ‘उद्वाह’ का अर्थ है उठाना या ऊपर उठाना।
  • Through this scheme, Ganga water will be supplied to Gaya, Bodh Gaya, Rajgir and Nawada.
  • There has been a problem of drinking water in these places for a long time.
  • इस योजना के तहत गया, बोधगया, राजगीर और नवादा में गंगा जल की आपूर्ति की जाएगी।
  • इन इलाकों में लंबे समय से पेयजल की समस्या बनी हुई है।

  • Ganga water will be brought from Hathidah near Mokama, which will be transported to Gaya, Bodh Gaya, Rajgir and Nawada through a 149 km long pipeline.
  • मोकामा के पास हाथीदाह से गंगा जल लाया जाएगा, जिसे 149 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन के जरिए गया, बोधगया, राजगीर और नवादा तक पहुंचाया जाएगा.

  • ‘Gangajal Udvah Yojana’ is an ambitious scheme of the Government of Bihar which falls under the ambit of ‘Jal Jeevan Hariyali Abhiyan’.
  • ‘गंगाजल उद्वाह योजना’ बिहार सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है जो ‘जल जीवन हरियाली अभियान’ के दायरे में आती है।

Jal Jeevan Hariyali Abhiyan

जल जीवन हरियाली अभियान

  • Jal-Jivan-Hariyali Abhiyan’ programme is aimed at protecting environment and minimising the bad effects of climate change on the lives of people in Bihar.
  • जल-जीवन-हरियाली अभियान’ कार्यक्रम का उद्देश्य पर्यावरण की रक्षा करना और बिहार में लोगों के जीवन पर जलवायु परिवर्तन के बुरे प्रभावों को कम करना है।
  • It will make people aware of the fact that groundwater is the only source of water in the event of less rainfall and people will have to go for rainwater harvesting to conserve water.
  • यह लोगों को इस तथ्य से अवगत कराएगा कि कम वर्षा की स्थिति में भूजल ही पानी का एकमात्र स्रोत है और लोगों को जल संरक्षण के लिए वर्षा जल संचयन के लिए जाना होगा।
  • In 2019, Bihar Authorities launched a massive afforestation drive in villages located along the banks of the Ganga river with the twin objectives to prevent soil erosion and recharge groundwater in the Ganga basin.
  • 2019 में, बिहार अधिकारियों ने गंगा नदी के किनारे स्थित गांवों में मिट्टी के कटाव को रोकने और गंगा बेसिन में भूजल रिचार्ज करने के दोहरे उद्देश्यों के साथ बड़े पैमाने पर वनीकरण अभियान शुरू किया।
  • In a one-of-its kind move, Bihar government has created ‘Organic Farming Corridor’ along river Ganga with 13 districts including Patna.
  • बिहार सरकार ने अपनी तरह के अनूठे कदम के तहत पटना सहित 13 जिलों को मिलाकर गंगा नदी के किनारे ‘ऑर्गेनिक फार्मिंग कॉरिडोर’ बनाया है।
  • Bihar produces a variety of vegetables along with traditional paddy and potatoes along the banks of river Ganga.
  • As part of the corridor, the state government is encouraging farmers to get trained in organic farming without the use of fertilisers.
  • बिहार गंगा नदी के किनारे पारंपरिक धान और आलू के साथ विभिन्न प्रकार की सब्जियों का उत्पादन करता है।
  • कॉरिडोर के हिस्से के रूप में, राज्य सरकार किसानों को उर्वरकों के उपयोग के बिना जैविक खेती में प्रशिक्षित होने के लिए प्रोत्साहित कर रही है।

Latest Burning Issues | Free PDF